Sayings - Quotes SMS [Greate People Quotes]

Added 6 years ago

"Kisi raah par chalte hue aapke samne
1 bhi samasya na aaye to..
samaj lena ki aap galat raste par
chal rahe ho"
=> Swami Vivekanand

I Like SMS - Like: 279 - SMS Length: 136 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

कोई भी काम शुरू करने के पहले तीन सवाल अपने आपसे पूछो---
मैं ऐसा क्यों करने जा रहा हूँ ?
इसका क्या परिणाम होगा ?
क्या मैं सफल रहूँगा ?

चाणक्य सूक्ति वाक्य

I Like SMS - Like: 255 - SMS Length: 389 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

सुविचार

"अज्ञानी के लिए किताबें और अंधे के लिए दर्पण एक सामान उपयोगी है "

- चाणक्य सूक्ति वाक्य

I Like SMS - Like: 233 - SMS Length: 249 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

एक सफल व्यक्ति बनने की कोशिश मत करो,
बल्कि मूल्यों पर चलने वाला व्यक्ति बनो।

अल्बर्ट आइंस्टीन

I Like SMS - Like: 221 - SMS Length: 249 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

कायर मनुष्य कभी भी सदाचारी और नीतिवान नहीं हो सकता है।

-महात्मा गांधी

I Like SMS - Like: 198 - SMS Length: 184 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

क्रूरता का उत्तर क्रूरता से देने का अर्थ अपने नैतिक व बौद्धिक पतन को स्वीकार करना है।

-महात्मा गांधी

I Like SMS - Like: 201 - SMS Length: 265 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

जिसे समाज उचित मानकर चले,
जिसमें सबको अधिकार और सुविधएं प्राप्त हों,
जिसमें भेदभाव न हो, वही न्याय है।

-मेरियम

I Like SMS - Like: 168 - SMS Length: 289 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

इतने खुश रहें कि जब
दुसरे आपको देखें, तो वे भी
खुश हो जाएं|

I Like SMS - Like: 161 - SMS Length: 149 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

मूर्खों का समयव्यसन,नींद
तथा लड़ाई-झगड़े में व्यतीत
होता है, जबकि विद्वानों का
समयसकारात्मक चिंतन और
श्रेष्ठ कार्यों में व्यतीत होता है।

-नारायण पंडित

I Like SMS - Like: 151 - SMS Length: 405 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

अत्यधिक परिचय से अवज्ञा उत्पन्न होती है और किसी के पास लगातार जाने से निरादर होता है।

-शार्गधर

I Like SMS - Like: 153 - SMS Length: 249 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

मनुष्य अनुचित और भ्रष्ट कर्म कर हर क्षण स्वयं को धोखा देता है, क्योंकि वर्तमान कर्म ही उसके भविष्य के प्रारब्ध का आधार है।

-नीतिसार

I Like SMS - Like: 153 - SMS Length: 344 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
Added 6 years ago

व्यक्ति को जरूरत से ज्यादा सरल व ईमानदार नहीं होना चाहिए। सीधे तने के पेड़ सबसे पहले काटे जाते हैं।

-चाणक्य

I Like SMS - Like: 154 - SMS Length: 282 - Wallpaper - Share on FaceBook - Twitter
1 2 3 4 Next
Page(1/4)
Jump to Page